Tuesday, 24 August, 2010

राखी का त्यौहार आया : आकांक्षा यादव


प्यारी-प्यारी मेरी बहना
हरदम माने मेरा कहना
राखी का त्यौहार आए
मन को भाये, खूब हर्षाए।

बांधे प्यार से राखी बहना
प्यार का अद्भुत सुंदर गहना
भैया मेरे तुम रक्षा करना
दुःख आये तो मिलजुल सहना।

राखी बांध मिठाई खिलाए
तिलक लगाकर खूब दुलराए
ऐसा सुंदर है यह रिश्ता
देख-देख मम्मी मुस्कायंे।

पढ़-लिखकर मैं बड़ा बनूंगा
बहना को दूंगा उपहार
मेरी बहना जग से न्यारी
पावन है भाई-बहन का प्यार।
Post a Comment