Wednesday 10 November 2010

अर्द्धचन्द्र - जितेन्द्र ‘जौहर’

रात पूछने लगा लाड़ला,
मम्मी से यह बात-
‘बतलाओ...माँ! चन्दा का क्यों,
दिखता आधा गात ?’


बोली माँ,‘दे दिया पजामा-
करने को कल साफ़।
इसीलिए आ गया आज वह,
पैंट पहनकर हाफ़।’


-जितेन्द्र ‘जौहर’,आई आर - 13/6, रेणुसागर, सोनभद्र (उप्र) 231218.
Post a Comment