Saturday, 9 October, 2010

लेटर बाक्स - कृष्ण कुमार यादव

आप सभी ने लेटर-बाक्स देखा होगा...लाल-लाल. अब तो हरे, पीले, नीले लेटर-बाक्स भी दिखने लगे हैं. ये लेटर बाक्स चिट्ठियों को एक जगह से दूजी जगह ले जाने के लिए आधार का कार्य करते हैं. इनके बिना तो पत्रों की दुनिया भी सूनी हो जाएगी. मोबाईल और नेट आ जाने के बाद दुनिया भर में व्यक्तिगत पत्रों की संख्या में कमी आई है, पर अपने देश में अभी भी हर दिन डाकिया 2 करोड़ डाक बाँटता है. सुनकर विश्वास नहीं होता न...पर यही सच है. आज तो 'विश्व डाक दिवस' भी है. इसी दिन विश्व डाक संघ का 1874 में गठन हुआ था. चलिए आज के दिन लेटर-बाक्स को लेकर एक बाल-कविता-



लाल रंग का लेटर बाक्स
पेट इसका खूब बड़ा
जाड़ा, गर्मी या बरसात
रहता है अडिग खड़ा

लाल, गुलाबी, हरे, नीले
पत्र जायें देश-विदेश
हर पत्र की है महत्ता
छुपा हुआ सबका संदेश।

खूब सारे पत्र आते
पेट में इसके समाते
सब पाकर अपना संदेशा
मन ही मन खुश हो जाते।

15 comments:

raghav said...

लाल, गुलाबी, हरे, नीले
पत्र जायें देश-विदेश
हर पत्र की है महत्ता
छुपा हुआ सबका संदेश।

...बहुत सुन्दर बाल- कविता...के.के. सर को बधाई.

raghav said...

विश्व डाक दिवस की शुभकामनायें.

शरद कुमार said...

यह तो हमारे कानपुर GPO का लेटर बाक्स लग रहा है...कविता तो बड़ी प्यारी है.

शरद कुमार said...

नवरात्र के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

editor : guftgu said...

के. के. यादव साहब,

पत्रों में जो संवेदना है, वह अन्यत्र नहीं. आप तो खुद साहित्यकार हैं, पत्रों और संवेदना के रिश्तों से परिचित हैं. डाक दिवस के दिन आपकी बड़ी वैचारिक और तथ्यपरक पोस्ट पढ़ी और अब आपकी यह मनभावन बाल-गीत.....मुबारकवाद.

प्रवीण पाण्डेय said...

शुभकामनायें। बहुत सुन्दर कविता।

KK Yadav said...

विश्व डाक दिवस पर प्रस्तुत यह पोस्ट और बाल-कविता आपको अपील करती है...आप सभी ने इसे सराहा अच्छा लगा. आभार.विश्व डाक दिवस की शुभकामनायें.

Udan Tashtari said...

दिवस विशेष पर प्यारी कविता..


विश्व डाक दिवस की शुभकामनायें

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत अच्छी कविता ...

Akshitaa (Pakhi) said...

यह लेटर बाक्स कित्ता प्यारा है...

Manoj Kumar said...

it's really great!

डॉ. मोनिका शर्मा said...

letter box par itni pyaari baal kavita ..... bahut sunder

Chaitanyaa Sharma said...

अरे वाह आपने तो कितनी प्यारी कविता बनाई लैटर बॉक्स पर .... मुझे बड़ी अच्छी लगी

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

रचना के साथ लैटरबॉक्स भी बढ़िया है!
--
आपकी सुन्दर पोस्ट री चर्चा तो बाल चर्चा मंच पर भी लगाई गई है!
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/10/22.html

रानीविशाल said...

बहुत प्यारी कविता.... बहुत अच्छी लगी.
नन्ही ब्लॉगर
अनुष्का