Friday 7 January 2011

और किसी दिन आओ - डा. नागेश पांडेय 'संजय'


ट्रिन ट्रिन घंटी सुनकर चूहा ,

दरवाजे पर आया .

बोला -" जी , क्या काम , कहो क्यों ,

याद हमें फ़रमाया ? "

" बिल वाला हूँ , बिल लाया हूँ ;

बिल के पैसे लाओ.

बिल में घुसकर चूहा बोला -

" और किसी दिन आओ । "
Post a Comment