Saturday, 8 October, 2011

माँ - दीनदयाल शर्मा


माँ तू आंगन मैं किलकारी,
माँ ममता की तुम फुलवारी।
सब पर छिड़के जान,
माँ तू बहुत महान।।

दुनिया का दरसन करवाया,
कैसे बात करें बतलाया।

दिया गुरु का ज्ञान,
माँ तू बहुत महान।।

मैं तेरी काया का टुकड़ा,
मुझको तेरा भाता मुखड़ा।
दिया है जीवनदान,
माँ तू बहुत महान।।

कैसे तेरा कर्ज चुकाऊं,
मैं तो अपना फर्ज निभाऊं।
तुझ पर मैं कुर्बान,
माँ तू बहुत महान।।

-दीनदयाल शर्मा,

10/22 आर.एच.बी. कॉलोनी,
हनुमानगढ़ जंक्शन-335512
राजस्थान, भारत

4 comments:

Anonymous said...

bahut hi badiya rachna...

Ratnesh said...

माँ पर दीनदयाल जी की सुन्दर कविता..बधाइयाँ.

Ratnesh said...

माँ पर दीनदयाल जी की सुन्दर कविता..बधाइयाँ.

Shyama said...

मन को छू गई यह कविता..शर्मा जी को साधुवाद.