Wednesday 31 October 2012

बढ़ते बच्चों के लिए सही खुराक...

बच्चों की ग्रोइंग एज में उन्हें राइट डाइट देना वाकई बहुत जरूरी है। लेकिन इसके लिए आप उनसे जबर्दस्ती न करें। बेहतर होगा कि आप पहले हर चीज के न्यूट्रिएंट्स के बारे में जानकर बच्चों को स्मार्ट तरीके से वे आइटम सर्व करें:

बच्चों की ग्रोइंग एज में उनके लिए न्यूट्रिशंस बहुत जरूरी हैं। लेकिन आजकल लाइफस्टाइल और फूड ऑप्शंस के चलते बच्चे जंक फूड की तरफ ज्यादा अट्रैक्ट होते हैं। न्यूट्रिशनिस्ट डॉ. सुनीता दुबे कहती हैं, 'पैरंट्स को बच्चों में खाने-पीने की अच्छी आदतें डालनी चाहिए। अगर ये शुरुआत से ही इन आदतों के हिसाब से पाला जाए, तो ये पूरी जिंदगी बरकरार रहती हैं। फिर अगर बच्चों की डाइट सही हो, तो इससे बच्चों को एनर्जी मिलने के साथ ही उनका दिमाग भी बहुत शार्प होता है। यहां तक कि उनके मूड पर भी इसका पॉजिटिव असर पड़ता है।'

क्लिनिकल साइकॉलजिस्ट डॉ. नूपुर कृष्णन कहती हैं, 'बच्चों को एनर्जी की बहुत ज्यादा जरूरत होती है, क्योंकि वे इस टाइम पर वे अपनी ग्रोइंग एज में होते हैं। अगर इस स्टेज पर कोई डेफिशिएंसी रह जाए, तो इससे उनकी ग्रोथ पर बहुत असर होता है।' देखा जाए, तो प्रति किलोग्राम के हिसाब से एक बच्चे को एडल्ट्स की तुलना में ज्यादा कैलरीज की जरूरत होती है। बच्चों में मेटाबॉलिज्म रेट बहुत ज्यादा होता है और एज बढ़ने के साथ धीरे-धीरे यह कम होने लगता है। फिर बड़ों की तुलना में बच्चों की फिजिकल ऐक्टिविटी ज्यादा होती है।

एक बच्चे को बड़े की तुलना में ज्यादा प्रोटीन चाहिए होता है। यह न सिर्फ टिशूज को रिपेयर करने के लिए चाहिए होता है, बल्कि प्रॉपर ग्रोथ के लिए भी इसकी जरूरत होती है। कैलरीज के कुल हिस्से में से 14 से 15 पर्सेंट तक प्रोटीन होता है। प्रोटीन का मेन सोर्स दूध और दूध से बने प्रॉडक्ट्स हैं, मसलन दही, पनीर, लस्सी, श्रीखंड वगैरह। इसके अलावा मीट, फिश, ऐग, पल्सेज वगैरह को भी बच्चों की डाइट में शामिल किया जाना चाहिए। डॉ. कृष्णन के मुताबिक, किस बच्चे को दिन में कितनी कैलरीज की जरूरत है, यह उसकी हाइट, बिल्ट, जेंडर और ऐक्टिविटी लेवल पर डिपेंड करता है। वैसे, यह काम पैरंट्स का होगा कि वह इस बात का ध्यान रखें कि बच्चों को पूरी कैलरीज मिल रही हैं या नहीं।

न्यूट्रिशंस हैं जरूरी
डाइटिशियन और न्यूट्रिशनिस्ट वैशाली एम. कहती हैं, 'बच्चों के ग्रोइंग पीरियड में फिजिकल, बॉयोकेमिकल और इमोशनल डिवेलपमेंट तेजी से होता है। इस दौरान वे एडल्ट हाइट का 20 पर्सेंट और वेट का 50 पर्सेंट गेन कर लेते हैं। इस टाइम पर उनकी ग्रोथ बहुत तेजी से होती है, इसलिए उन्हें न्यूट्रिएंट्स की जरूरत भी ज्यादा होती है। इसके लिए उसकी डाइट में ऐसी चीजें शामिल करें, जिनसे उसे एनर्जी, प्रोटीन, मिनरल्स और विटामिन्स सभी सही अमाउंट्स में मिलें।'

ये हैं फूड सोर्स
कैल्शियम- मिल्क एंड मिल्क प्रॉडक्ट, स्प्राउट्स, नचनी, बाजरा, ज्वार, ब्लैक ग्राम दाल, सीड्स, ग्राउंडनट चिक्की, आलमंड, सोयाबीन, मेथी, बीटरूट। आयरन- सोयाबीन, पालक, गोभी, रेड मीट, ब्रोकली। विटामिन सी- ब्रोकली, कैप्सिकम, गोभी, स्ट्रॉबेरी, लेमन, मस्टर्ड, टनिर्प, ग्रीन पापाया, कैबेज, पालक। विटामिन ए- डार्क ग्रीन, येलो वेजिटेबल एंड फ्रूट्स, गाजर, टमाटर, दूध, मक्खन, चीज और अंडे।

ईटिंग हैबिट्स
- जहां तक हो सके, खाना घर पर बनाने की कोशिश करें।
- बच्चों को भी इसमें इन्वॉल्व करें। बच्चों को ये सिलेक्ट करने में मजा आता है कि उन्हें लंच में क्या खाना है और डिनर में क्या खाना है। इस दौरान आप उन्हें खाने की न्यूट्रिशनल वैल्यूज के बारे में बता सकती हैं।
- आप खाने को इनाम या सजा के तौर पर यूज न करें।
- बच्चे पर प्लेट में रखा खाना पूरा खाने के लिए दबाव न डालें।
- बच्चे को खाना तभी दें, जब उसे वाकई भूख लगी हो। अगर बेवजह प्रेशर डालेंगी, तो वह खाना से मन चुराने लगेगा.

(साभार : नवभारत टाइम्स-दिल्ली , 29 दिसंबर2011)

Saturday 27 October 2012

मेरी झोली में

मेरी झोली में
सपने ही सपने भरे
ले-ले आ कर वही
जिसका भी जी करे.

एक सपना है
फूलों की बस्ती का
एक सपना है
बस मौज मस्ती का,
मुफ्त की चीज है
फिर कोई क्यों डरे?

एक सपना है
रिमझिम फुहारों का
एक सपना है
झिलमिल सितारों का
एक सपना जो
भूखे का पेट भरे.
ले-ले आ कर वही
जिसका भी जी करे.


 


Wednesday 24 October 2012

यूँ आरंभ हुआ विजयदशमी पर्व

आज दशहरा (विजयदशमी) पर्व है. यह पर्व भारतीय संस्कृति में सबसे ज्यादा बेसब्री के साथ इंतजार किये जाने वाला त्यौहार है। दशहरा शब्द की उत्पत्ति संस्कृत भाषा के शब्द संयोजन "दश" व "हरा" से हुयी है, जिसका अर्थ भगवान राम द्वारा रावण के दस सिरों को काटने व तत्पश्चात रावण की मृत्यु रूप में राक्षस राज के आंतक की समाप्ति से है। यही कारण है कि इस दिन को विजयदशमी अर्थात अन्याय पर न्याय की विजय के रूप में भी मनाया जाता है। दशहरे से पूर्व हर वर्ष शारदीय नवरात्र के समय मातृरूपिणी देवी नवधान्य सहित पृथ्वी पर अवतरित होती हैं- क्रमशः शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी व सिद्धिदात्री रूप में माँ दुर्गा की लगातार नौ दिनों तक पूजा होती है।

ऐसी मान्यता है कि नवरात्र के अंतिम दिन भगवान राम ने चंडी पूजा के रूप में माँ दुर्गा की उपासना की थी और माँ ने उन्हें युद्ध में विजय का आशीर्वाद दिया था। इसके अगले ही दिन दशमी को भगवान राम ने रावण का अंत कर उस पर विजय पायी, तभी से शारदीय नवरात्र के बाद दशमी को विजयदशमी के रूप में मनाया जाता है और आज भी प्रतीकात्मक रूप में रावण-पुतला का दहन कर अन्याय पर न्याय के विजय की उद्घोषणा की जाती है.

दशहरे की परम्परा भगवान राम द्वारा त्रेतायुग में रावण के वध से भले ही आरम्भ हुई हो, पर द्वापरयुग में महाभारत का प्रसिद्ध युद्ध भी इसी दिन आरम्भ हुआ था। पर विजयदशमी सिर्फ इस बात का प्रतीक नहीं है कि अन्याय पर न्याय अथवा बुराई पर अच्छाई की विजय हुई थी बल्कि यह बुराई में भी अच्छाई ढूँढ़ने का दिन होता है।

आप सभी को विजयदशमी पर्व की ढेरों शुभकामनायें !!

कृष्ण कुमार यादव

Sunday 21 October 2012

हिंदी के श्रेष्ठ शिशु-बाल गीत

हिन्दी के श्रेष्ठ शिशु और बाल गीतों की यदि चर्चा हो तो सर्वप्रथम हमारा ध्यान लोक-साहित्य पर जाता है। जिसमें न केवल अनेक लोककथाओं को पिरोते हुए बच्चों के लिए कविताएँ मिलती हैं बल्कि स्वर, लय और ध्वनि के चमत्कार से सुसाित बाल-मन को लुभाने वाले अनेक खेल गीत भी विद्यमान हैं। बाल लोकगीतकारों ने शिशु-मानस को बहुत आत्मीयता से देखा है और उसके अनुरूप ही गीत रचे हैं। इन गीतों के रचयिताओं के नाम कोई नहीं जानता लेकिन ये बाल और शिशु गीत हिंदी समाज में बच्चों के मन को वर्षों से गुदगुदाते आए हैं।

अक्कड़-बक्कड़ बंबे बोअस्सी नब्बे पूरे सौ।
सौ में लगा धागाचोर निकल के भागा।
 
यह एक ऐसा लोक खेल-गीत है जिसे गाकर बच्चे अपना कोई भी खेल आरंभ करते हैं।
बच्चों के लिए लोक-साहित्य में चंदा को हमेशा बच्चों के मामा की तरह प्रस्तुत किया गया है और चंदा मामा को लेकर अनेक बाल तथा शिशु-गीत प्रचलित हैं।

चंदा-मामा दूर केपुए पकाए पूर के
आप खाए थाली मेंमुन्ने को दें प्याली में
प्याली गई टूटमुन्ना गया रूठ!

ये प्लालियाँ, कटोरियाँ जिसमें बच्चे दूध-दही-भात, मनपसंद व्यंजन खाते हैं-बच्चों के मन में बसी रहती हैं।

लल्ला लल्ला लोरीदूध की कटोरी
दूध में बताशालल्ला करें तमासा।


या फिर,

अटकन-बटकन दही चटाकनमामा लाए चार कटोरी
एक कटोरी टूट गईमामा की बहू रूठ गई।


लोक-साहित्य अलिखित साहित्य है। पर हिंदी में लिखित बाल-साहित्य का प्रारंभ हम भारतेन्दु-युग से मान सकते हैं। इससे पहले बाल-साहित्य के नाम पर संस्कृत से हिंदी में अनुवादित केवल पंचतंत्र और हितोपदेश जैसी कृतियाँ ही थीं। इसमें बेशक बच्चों की अस्मिता झलकती है। भारतेंदु हरिश्चन्द्र की प्रेरणा से बाल-दर्पण (1862) तथा बालबोधिनी (1874) पत्रिकाओं का प्रकाशन हुआ। इन पत्रिकाओं से ही हिंदी में बाल-साहित्य का जन्म हुआ। भारतेंदु-युग के प्रमुख बाल साहित्यकारों में सबसे पहले स्वयं भारतेन्दु हरिशचन्द्र का ही नाम आता है। आपकी बालोपयोगी पुस्तकों में सत्य हरिश्चन्द्र, अंधेर नगरी, बादशाह दर्पण और कश्मीर कुसुम प्रमुख हैं। अंधेर नगरी की ये पंक्तियाँ तो आज भी बच्चों का ही नहीं, बड़ों-बड़ों का भी केवल मनोरंजन ही नहीं करतीं, उन्हें सोचने के लिए भी बाध्य करती हैं।

अंधेर नगरी चौपट राजा।
टके सेर भाजी, टके सेर खाजा॥


पूर्व स्वतंत्रता युग, जिसे हम 1901 से 1947 तक मान सकते हैं, में हिन्दी बाल साहित्य में काफी बढ़ोतरी हुई। इस काल के बाल साहित्यकारों में कामताप्रसाद गुरु, मैथिलीशरण गुप्त, रामनरेश त्रिपाठी, सुखदेव चौबे, विद्याभूषण, विशु, गिरजा दत्त शुक्ल, श्रीनाथ सिंह, सोहनलाल द्विवेदी, रामेश्वर गुरु, आदि प्रमुख हैं। इनमें से कई ऐसे कविलेखक हैं जो स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़े रहे और जिनमें राष्ट्रीय भावना की प्रमुखता रही। इनकी बाल कविताएं भी राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत रहीं। सोहनलाल द्विवेदी इनमें प्रमुख कवि कहे जा सकते हैं। हजारी प्रसाद द्विवेदी का कहना था कि हिंदी में बड़े-बड़े साहित्यकार तो हैं किंतु बच्चों के माई-बाप तो केवल सोहनलाल द्विवेदी हैं। द्विवेदी जी ने राष्ट्रभाव को विकसित और प्रेरित करने के लिए अनेकानेक बाल गीत लिखे और इनमें उपदेश भी कुछ इस तरह दिया कि बच्चों का अपना स्वाद बरकरार रहे-

मीठा होता खस्ता खाजा
मीठा होता हलुआ ताजा
मीठे होते गट्टे गोल
सबसे मीठे, मीठे बोल
मैंने पाले बहुत कबूतर
भोले भाले बहुत कबूतर
पहने हैं पैंजनी कबूतर





बीसवीं शताब्दी के आरंभिक दौर में जिन्हें और शिशु गीतकारों के रूप में प्रथम कवियों में सम्मिलित किया जा सकता है वे हैं, श्रीधर पाठक, बालमुकुंद गुप्त, सत्यनारायण कविरत्न आदि। बालमुकुंद गुप्त ने रेलगाड़ी नाम से एक अत्यंत सुंदर कविता लिखीं-

हिस हिस हिस हिस हिस हिस करती
रेल धड़ाधड़ जाती है
जिन जंजीरों से जकड़ी है
उन्हें खूब खड़काती है।





इस बाल गीत में स्पष्ट ही स्वतंत्रता के लिए प्रयत्न करने का उपदेश भी निहित है। इस काल प्रसंग में यदि अयोध्यासिंह उपाध्याय का नाम न लिया जाय तो यह उनके साथ बड़ा अन्याय होगा। हरिऔघ एक गंभीर कवि थे, लेकिन उन्होंने कई बालोपयोगी कविताएं लिखीं। उन्हें भी हिंदी के प्रथम बालकवियों में नि:संदेह रखा जा सकता है। उनकी एक प्रसिद्ध कविता बंदर शीर्षक से है-

देखो लड़कों बंदर आयाएक मदारी उसको लाया।
उसका है कुछ ढंग निरालाकानों में पहने वो बाला॥




पूर्व स्वतंत्रता युग के कुछ अन्य कवियों ने अत्यंत रोचक और बाल-मन में अपनी पैठ बनाती कविताएं रची हैं जिन्हें हम न केवल उत्कृष्ट कविताएं कह सकते हैं, बल्कि जो शिशु-बाल गीत लेखन के लिए एक मापदंड बनाती हैं। श्रीनाथ सिंह की एक कविता है-

नानी का संदूक
नानी का संदूक निरालाहुआ धुएं से बेहद काला
पीछे से वह खुल जाता हैआगे लटका रहता ताला
चंदन चौकी देखी उसमेंसूखी लौकी देखी उसमें
बाली जौ की देखी उसमेंखाली जगहों में है ताला।


भावपूर्ण, संवेदनशील और श्रेष्ठ गीतों को लिखने में जिस कवि ने सचमुच एक बड़ा और युगांतर काम किया है, वह है निरंकार देव सेवक। उन्होंने ही सच पूछा जाय, शिशु गीतों की असली पहचान कराई, उनकी खूबियों पर प्रकाश डाला और साथ ही उन्हें एक आधुनिक मुहावरा दिया। उनका एक मजेदार बाल गीत इस प्रकार है-

अगर मगर दो भाई थे, लड़ते खूब लड़ाई थे।
अगर मगर से छोटा था, मगर मगर से खोटा था.


-


अभी तक चिड़िया हिंदी शिशुबाल कविताओं में चीं चीं चूं चूं ही बोलती थी। एक प्रसिद्धि कविता है- चिडिया है चीं चीं बोल रही कानों में अमृत घोल रही वे फुदक-फुदक इठलाती हैं वे सबका मन बहलाती हैं। निरंकार जी ने चिड़ियों की बोली को एक नया आकार दिया। चिड़ियों की यह नई बोली हिंदी को अंग्रेजी अक्षरों और उनके संयोजन से मिली

टी-टुट टुट
चिड़िया कहती टी-टुट टुट, मुझको भी दे दो बिस्कुट
भूखी हूं, मैं खाऊंगी, खा पीकर उड़ जाऊंगी





यह वह समय था जब अंग्रेजी साहित्य का हिंदी पर गहरा प्रभाव पड़ रहा था। वस्तुत: हिंदी का सारा छायावादी साहित्य अंग्रेजी रोमेटिज्म से प्रभावित और प्रेरित था। इसी प्रभाव में सुमित्रानन्दन पंत ने यह कविता लिखी-

संध्या का झुटपुटबांसों का झुरमुट
थीं चहक रहीं चिड़ियां टी वी टी टुट टुट





ये पंक्तियां एक गंभीर कविता का अंश है। लेकिन सेवक जी ने चिड़ियों की इस अंग्रेजी बोली को स्पष्ट ही शिशु गीत में पिरोया है।

पूर्व स्वतंत्रता युग ने यदि हिंदी शिशु बाल गीतों के लिए एक सुदृढ़ आधार तैयार किया तो स्वतंत्रता के बाद के युग में ऐसे गीतों के लिए एक अच्छी और मजबूत इमारत बनी। इस युग के कवियों में दामोदर अग्रवाल, शेर जंग गर्ग, बाल स्वरूप राही, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना, योगेन्द्र कुमार लल्ला, सूर्य कुमार पांडे, शंकुतला सिरोठिया आदि नाम सम्मान से लिए जा सकते हैं।
सेवक जी के बाद शिशु गीतों को और भी अधिक ऊंचाई पर ले जाने वालों में शेर जंग गर्ग का नाम सर्वोच्च शिखर पर है। बाल-मन को लुभाने वाले उनके नटखट और चुटीले गीत बहुत ही प्यारे बन पड़े है
कितनी अच्छी कितनी प्यारीसब दुनिया से न्यारी गाय
सारा दूध हमें दे देतीआओ इसे पिलाएं चाय
अथवा
गुड़िया है आफत की पुड़ियाबोले हिंदी कन्नड़ उड़िया।
नानी के संग भी खेली थीकिंतु अभी तक हुई न बुढ़िया॥
इन गीतों में जहां बच्चों के लिए मनोरंजन है, वहीं एक खिलंदडेपन के साथ विचार को प्रेरित करने वाले तत्व भी हैं। यही बात हमें दामोदर अग्रवाल के बाल-गीतों में भी दिखाई देती है। उन्होंने प्रकृति के कई रंग-बिरंगे चित्र तो खींचे ही हैं
कुछ रंग भरे फूलकुछ खट्टे मीठे फलथोड़ी बांसुरी की धुनथोड़ा जामुन का जल- परंतु उनके गीतों में कहीं न कहीं विचार भी समाहित है।
सड़क पर मिले जो मुझे एक पैसा
मैं झट से उसे अपनी मुट्ठी में ले लूं
मैं झट से उसे अपने भाई को दे दूं
मैं झट सेउसे अपनी मां को दिखाऊं
मैं सबको चलूं ले के मेला दिखाऊं
मैं राजा बनूं और हाथी पे घूमूं
मैं वो पैसा पूरा का पूरा लूटा दूं
मैं पैसा लुटाकर गरीबी मिटा दूं
योगेन्द्र कमार लल्ला और सूर्य कुमार पांडे के शिशु-गीत भी उल्लेखनीय हैं। उन्हें बिना किसी विवाद के श्रेष्ठ गीतों में रखा जा सकता है। सर्वेश्वर दयाल सक्सेना एक बड़े कवि हैं। लेकिन बाल मन में उनकी पैठ देखते ही बनती है। उनकी प्रसिद्ध कविता-इब्नबतूतापहन के जूता-हमारा ध्यान तो खींचती ही है, बच्चों के दिल को भी आकर्षित करती है। हाल ही में इसकी प्रथम पंक्ति को टेक बनाकर एक फिल्मी गाना काफी चर्चा में रहा और गीतकार गुलजार पर आरोप लगाए गए। पर मुद्दे की बात यह है कि गुलजार जैसे कवि भी इस गीत के आकर्षण से बच नहीं पाए। सर्वेश्वर जी का पूरा गीत इस प्रकार है
इब्नबतूता पहन के जूता निकल पड़े तूफान में
थोड़ी हवा नाक में घुस गई
थोड़ी घुस गई कान में
कभी नाक को कभी कान को
मलते इब्नेबतूता
इसी बीच में निकल पड़ा
उनके पैरों का जूता
उड़ते-उड़ते जूता उनका
जा पहुंचा जापान में
इब्नबतूता खड़े रह गए मोची की दुकान में।

यह बड़े दुर्भाग्य की बात है कि हिन्दी जगत में कोई भी कवि अपने को बाल कवि के रूप में स्थापित करने के लिए उत्सुक नहीं हैं। बड़े-बड़े कवियों ने तमाम अच्छे शिशु और बाल गीत लिखे हैं। बाल साहित्य रचा है। कुछ ने तो अपना लेखन ही बाल साहित्य से आरंभ किया है। लेकिन आगे चलकर वे प्रौढ़ साहित्य की ओर प्रवृत्त हो गए। बाल साहित्य उनके लिए गौण हो गया। यह ध्यातव्य है कि हिंदी के अनेक बड़े और प्रतिष्ठित कवियों ने बाल साहित्य की रचना की। उनमें मुंशी प्रेमचंद, महादेवी वर्मा, निराला, सुमित्रानंदन पंत, सुभद्राकुमारी चौहान, मैथिलीशरण गुप्त, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना आदि साहित्यकारों का नाम लिया जा सकता है। किंतु क्योंकि हिंदी में बाल साहित्य हमेशा ही दोयम दर्जे का साहित्य माना गया अत: बड़े साहित्यकार इससे विमुख हो गए। आज जरूरत है कि प्रतिभा संपन्न साहित्यकार बाल लेखन की ओर प्रवृत्त हों और अपने को बाल साहित्यकार कहलाने में गौरवान्वित महसूस करें।

-डा. सुरेन्द्र वर्मा
10 एचआईजी-1, 29 कलर रोड, इलाहाबाद-11001

(साभार: लोक गंगा)

Thursday 18 October 2012

सोन मछरिया

ताल में जी ताल में
 सोनमछरिया ताल में.
मछुआरे ने मंतर फूंका
जाल गया पाताल में

थर-थर कांप ताल का पानी
फंसी जाल में मछली रानी,
तड़प-तड़प कर सोनमछरिया
मछुआरे से बोली भैया-
मुझे निकालो, मुझे निकालो,
दम घुटता है जाल में.

जाल में जी जाल में
सोनमछरिया जाल में.

मछुआरे ने सोचा पल भर,
कहा- छोड़ दूं तुझे मैं अगर,
उठ जाएगा दाना-पानी,
क्या होगा फिर मछली रानी?'
मछली बोली रोती-रोती-
'मेरे पास पड़े कुछ मोती,
जल में छोड़ो, ले आऊँगी,
सारे तुमको दे जाऊंगी.'

मछुआरे को बात जंच गई,
बस मछली की जान बच गई,
मछुआरे को मोती दे कर
जल में फुदकी जल की रानी.
सोनमछरिया-मछुआरे की
खत्म हुई इस तरह कहानी.
 
C-H2/1002 Classic Residency, Rajnagar Extension, NH-58, Ghaziabad-201003,

Tuesday 16 October 2012

'नवरात्र' पर 'नव-सृजन' की ओर हों तत्पर..

 
!! नवरात्र पर नव-सृजन की ओर तत्पर हों !!
***नवरात्र की हार्दिक शुभकामनायें ***